google-site-verification=kFF_GbTMjdJvyJNHI6thLREEW1qX4LmCzK2g8_p9rr8

Chandra Grahan,आज रात में साल 2023 का आखिरी चन्द्रग्रहण

Chandra Grahan on Sharad Purnima Today, Sutak Kaal Kab Hai Live: आज रात देश-दुनिया में साल 2023 का आखिरी ग्रहण देखने को मिलेगा। यह आंशिक चंद्र ग्रहण होगा। इस चंद्र ग्रहण को भारत में कई जगहों पर देखा जा सकेगा। ग्रहण भारत में दिखाई देगा इस कारण से सूतक काल मान्य होगा। शाम 4 बजे से सूतक लगेगा। चंद्र ग्रहण मध्य रात्रि के बाद 1 बजकर 05 मिनट से आरंभ होकर 02 बजकर 24 तक चलेगा। यह ग्रहण अश्विनी नक्षत्र और मेष राशि पर लगेगा।

सूतक लगने से पहले कर लें ये काम

चंद्र ग्रहण का सूतक काल आज शाम 04 बजे के बाद से शुरू होने वाला है। ऐसे में उससे पहले खाने की चीजों में तुलसी की पत्तियां या कुशा डाल दें और मंदिर के कपाट बंद कर दें।

ग्रहण के बुरे प्रभाव से बचने के लिए जपें ये मंत्र

चंद्र ग्रहण के दौरान चंद्र देव के मंत्र ‘ॐ श्रीं श्रीं चन्द्रमसे नमः’ का जाप करने से चंद्र दोष का प्रभाव कम हो जाता है।

चंद्र ग्रहण के दौरान बरतें ये सावधानियां

चंद्र ग्रहण के दौरान घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। अगर आप चंद्र ग्रहण के दौरान घर से बाहर भी निकल गए हैं तो चंद्रमा की ओर से न देखें। इसके अलावा चंद्र ग्रहण के दौरान यदि आप घर से बाहर हैं तो किसी चौराहे के आसपास जाने से बचें। दरअसल ग्रहण के दौरान चौक-चौराहों पर जाने की मनाही है। ऐसा इसलिए क्योंकि रात के समय ऐसी जगहों पर नकारात्मक शक्तियां सक्रिया हो जाती हैं।

चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं रखें इन बातों का ध्यान

गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। गर्भवती महिलाओं को चंद्र ग्रहण के समय चंद्रमा को नहीं देखना चाहिए। इस दौरान घर से बाहर भी नहीं निकलना चाहिए। इस समय कैंची, चाकू जैसी किसी भी धारदार चीज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान नुकीली चीजों से कोई वस्तु नहीं काटनी चाहिए।

जानिए कर्क, सिंह और कन्या राशि वालों पर कैसा ग्रहण का असर

कर्क राशि- राशि से दशम कर्मभाव में लगने वाला ग्रहण आपके लिए कई अप्रत्याशित परिणाम देगा। स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। माता-पिता के स्वास्थ्य के प्रति भी चिंतनशील रहें। कार्यक्षेत्र में षड्यंत्र का शिकार होने से बचें। बेहतर रहेगा कार्य संपन्न करें और सीधे घर आएं। इन सबके बावजूद जमीन-जायदाद संबंधी मामलों का निपटारा होगा।

सिंह राशि- राशि से नवम भाग्यभाव में लगने वाला ग्रहण आपके लिए बहुत अच्छा तो नहीं कहा जा सकता किन्तु आपके द्वारा किए गए कार्यों की इस सराहना होगी। धार्मिक ट्रस्टों तथा अनाथालय आदि में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेंगे और दान पुण्य करेंगे। संतान संबंधी चिंता परेशान कर सकती है। कोर्ट कचहरी के मामले बाहर ही सुलझाएं।

कन्या राशि- राशि से अष्टम आयुभाव में लगने वाला ग्रहण आपके लिए अच्छा नहीं कहा जा सकता। इस ग्रहण का प्रभाव आपके स्वास्थ्य पर सर्वाधिक पड़ेगा। इसके प्रति सावधान रहें। यात्रा भी सावधानी पूर्वक करें। दुर्घटनाओं से बचने का प्रयास करें। कार्यक्षेत्र में भी षड्यंत्र का शिकार होने से बचें। बेहतर रहेगा कार्य संपन्न करें और सीधे घर आएं।

मेष, वृषभ और मिथुन राशि पर चंद्र ग्रहण का असर

मेष राशि-
आपकी की राशि पर लगने वाला ‘चन्द्र ग्रहण’ स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छा नहीं कहा जा सकता, सामाजिक पद प्रतिष्ठा आहत होगी। आएंगी। इस अवधि के मध्य चुनाव से संबंधित कोई निर्णय लेना चाह रहे हों तो बहुत सोच समझ कर लें, यात्रा सावधानी पूर्वक करें। वाहन दुर्घटना से बचें, यात्रा में सामान चोरी होने से भी बचाएं।

वृषभ राशि-
राशि से बारहवें व्यय भाव में लगने वाला चन्द्र ग्रहण अत्यधिक भाग दौड़ और खर्च का सामना करवायेगा। विदेशी मित्रों तथा संबंधियों से अप्रिय समाचार प्राप्ति के योग। इस अवधि के मध्य अधिक कर्ज के लेन-देन से बचें। विद्यार्थियों एवं प्रतियोगी छात्रों को परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए और प्रयास करने होंगे।

मिथुन राशि-
राशि से एकादश लाभ भाव में लगने वाला ग्रहण आपके लिए किसी वरदान से काम नहीं है। आय के साधन तो बढ़ेंगे ही दिया गया धन भी वापस मिलने की उम्मीद। कार्यक्षेत्र में सहयोगियों से संबंध मजबूत होंगे। नव दंपति के लिए संतान प्राप्ति एवं प्रादुर्भाव के भी योग। परिवार के वरिष्ठ सदस्यों से मतभेद बढ़ने न दें।

भारत के इन शहरों में दिखाई देगा चंद्र ग्रहण

28/29 अक्तूबर की मध्य रात्रि लगने वाला साल का आखिरी चंद्र ग्रहण भारत में चंद्र ग्रहण दिल्ली, गुवाहटी, जयपुर, जम्मू, कोल्हापुर, कोलकाता और लखनऊ, मदुरै, मुंबई, नागपुर, पटना, रायपुर, राजकोट, रांची, शिमला, सिल्चर, उदयपुर, उज्जैन, बडौदरा, वाराणसी, प्रयागराज, चेन्नई, हरिद्वार, द्वारका, मथुरा, हिसार, बरेली, कानपुर, आगरा, रेवाड़ी,अजमेर, अहमदाबाद, अमृतसर, बेंगलुरु भोपाल, भुवनेश्वर, चंडीगढ़, देहरादून, लुधियाना समेत कई शहरों में नजर आएगा।

इस राशि में लग रहा चंद्र ग्रहण

28/29 अक्तूबर की मध्य रात्रि को शुरू होने वाला चंद्र ग्रहण मेष राशि में लगेगा। मेष राशि में लगने की वजह से इस राशि के जातकों को ग्रहण के अशुभ परिणाम झेलने पड़ सकते हैं। साल के आखिरी चंद्र ग्रहण का प्रभाव मेष राशि के लोगों के मन और मस्तिष्क पर पड़ेगा।

क्यों लगता है चंद्र ग्रहण ?

सूर्य के चारों तरफ पृथ्वी घूमती है और चंद्रमा पृथ्वी का चक्कर लगाता है। इस प्रक्रिया में एक ऐसा समय आता है जब चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य एक ही सीध में आ जाते हैं और सूर्य का प्रकाश पृथ्वी पर पड़ता है, लेकिन चंद्रमा तक नहीं पहुंच पाता है। इस घटना को खगोलीय घटना के रूप में चंद्र ग्रहण कहा जाता है।

चंद्रग्रहण का समय

ग्रहण का स्पर्श रात- 1:05 बजे
ग्रहण का मध्य रात्रि 1:44 बजे
ग्रहण का मोक्ष रात्रि 2:24 बजे
ग्रहण का सूतक दोपहर 4:05 बजे

28 अक्तूबर को साल 2023 का दूसरा और आखिरी चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। इसके पहले साल 2023 का पहला चंद्र ग्रहण 5 मई को वैशाख पूर्णिमा वाले दिन लगा था। यह चंद्र ग्रहण दुनिया भर के कई हिस्सों में देखा गया था, लेकिन भारत में यह ग्रहण दिखाई नहीं दिया था। अब साल का आखिरी चंद्र ग्रहण भारत में भी दिखाई देगा।

Leave a Comment